Breaking News

एसएमएस अस्पताल: तमाम दावों के बाद भी ट्रोमा सेंटर में नहीं बन पाया पार्टीशन

जयपुर। एसएमएस अस्पताल प्रशासन भले ही मरीजों और परिजनों की सुविधाओं के लाख दावें करें लेकिन इन दिनों ट्रोमा सेंटर में नर्सिंग कर्मचारी इन दिनों परेशान हैं। उनका कहना है कि कई बार शिकायतों के बाद भी ट्रोमा सेंटर में अभी भी पार्टीशन नहीं बना है जिस कारण इमरजेंसी में इलाज के दौरान मरीजों के परिजन भी अंदर आ रहे हैं।

ऐसे में वे नर्सिंगकर्मियों पर दवाब बनाते हैं। जिसके चलते वे मरीजों का इलाज ठीक ढंग से नहीं कर पाते हैं। ऐसे हालात में ट्रोमा सेंटर में आए दिन परिजनों और ट्रोमा सेंटर के कर्मचारियों के बीच आए दिन विवाद की स्थिति बन रही है। इस मामले में नर्सिंगकर्मियों का कहना है कि कई बार तो बात हाथापाई तक पहुंच जाती है। ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी अस्पताल प्रशासन को नहीं है। फिर भी अस्पताल प्रशासन इस मामले को लेकर अनदेखी कर रहा है।

लगातार बढ़ रही मरीजों की संख्या पर कोई नहीं दे रहा ध्यान
एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में लगभग पांच हजार से ज्यादा एक्सीडेंट और दुघर्टना से शिकार होकर लोग इलाज के लिए आते हैं। लेकिन पार्टीशन नहीं होने के कारण नर्सिंग कर्मियों को गंभीर रूप से घायल मरीजों की सर्जरी कई बार उन्हें खुले रूप से करनी पड़ती है जिस वजह से परिजन अक्सर नर्सिंगकर्मियों पर दबाव बनाते हैं जिस वजह से वे मरीजों का उपचार बेहतर तरीके से नहीं कर पाते हैं। ऐसे में नर्सिंगकर्मियों की परेशानियां दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

अस्पताल सूत्र बताते हैं कि ट्रोमा सेंटर के पार्टीशन के बारे में कई बार शिकायत करने के बाद भी इस दिशा में कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। जिस वजह से मरीजों के साथ उनके परिजन भी अंदर आ रहे हैं। ऐसे में नर्सिंगकर्मियों की परेशानी बढ़ती जा रही है। लेकिन अस्पताल प्रशासन हर बार बजट का हवाला देकर इस मामले को टाल रहा है।

Related Posts

Leave A Comment