Breaking News

PoK में पाकिस्तान से आजादी की मांग जोरों पर, हजारों युवाओं ने निकाली रैली

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में सरकार की ज्यादतियों के खिलाफ माहौल लगातार गर्म होता जा रहा है। आम लोगों से लेकर छात्र तक, हर वर्ग में पाकिस्तान के खिलाफ नाराजगी भरी हुई है। PoK में हजारों की तादाद में युवा सरकार के विरोध में सड़कों पर उतर आए। जम्मू-कश्मीर स्टूडेंट्स फेडरेशन (JKNSF) ने PoK के जंदाली में एक विशाल रैली का आयोजन किया। इस रैली में हजारों युवा शामिल हुए। इसमें केवल छात्रों ने ही नहीं, बल्कि अन्य क्षेत्रों से जुड़े युवाओं ने भी शिरकत की। ये सभी लोग पाकिस्तान सरकार के अत्याचारों का विरोध करते हुए आजादी की मांग कर रहे थे। इससे पहले भी समय-समय पर PoK में पाकिस्तान-विरोधी प्रदर्शन होते आए हैं।

एक रिपोर्ट में इस रैली की जानकारी दी है। JKNSF के सदस्यों ने पाकिस्तान की ज्यादतियों और वहां सरकार द्वारा किए जा रहे दमन का विरोध करते हुए आजादी की मांग की। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि पाकिस्तान सरकार न केवल लोगों पर जुल्म कर रही है, बल्कि उनका दमन भी कर रही है। JKNSF के कई नेताओं ने आरोप लगाया कि पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसियों ने उनकी ‘मातृभूमि को आतंकवादी की पनाहगाह’ में तब्दील कर दिया है। इन नेताओं ने इल्जाम लगाया कि पाकिस्तान अपनी सेना का इस्तेमाल कर उनका शोषण और दमन कर रहा है। ये प्रदर्शनकारी इन अत्याचारों से आजादी की मांग करने के साथ-साथ अपने अधिकारों की भी वकालत कर रहे थे।

JKNSF के वरिष्ठ नेता लियाकत खान ने कहा, ‘जब पाकिस्तान ने नीलम झेलम, मंगला बांध बनाया तब उसे यह नहीं लगा कि यह इलाका विवादित है। लेकिन जब हम अपने अधिकार मांगते हैं, तो हमारी पहचान एक विवादित क्षेत्र के निवासियों की हो जाती है।’ लियाकत खान ने सवाल किया कि PoK के लोगों को दुनियाभर की प्रतियोगिताओं और कार्यक्रमों में हिस्सेदारी करने का मौका क्यों नहीं दिया जाता है। उन्होंने सवाल किया, ‘जब हम खिलाड़ियों को दुनियाभर में आयोजित होने वाली खेल प्रतियोगिताओं में शामिल होते हुए देखते हैं तो हम सोचते हैं कि आखिरकार हमारे युवाओं को यह मौका क्यों नहीं मिलता है। हमारे युवा इन जंगलों के बाहर क्यों नहीं जा पाते हैं।’
लियाकत खान ने कहा कि पाकिस्तान सरकार PoK के लोगों को अपना गुलाम समझती है और इसीलिए उनपर अत्याचार करती है। उन्होंने कहा, ‘मैं अपने लोगों से और PoK में रहने वाले हर इंसान से इन गुलामी की जंजीरों को तोड़ देने की अपील करता हूं। हमारी यह खूबसूरत धरती संसाधनों और प्रतिभाओं से भरी पड़ी है। हमें अपने अंदर का डर खत्म करना होगा और पाकिस्तान से रिश्ते तोड़ने होंगे।’ लियाकत ने कहा कि इस्लामाबाद द्वारा लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन जैसे आतंकवादी संगठनों को समर्थन दिए जाने के कारण पूरे PoK के लोगों के अंदर गुस्सा है। उन्होंने पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसी ISI पर पाकिस्तान को अपनी आतंकवाद की प्रयोगशाला में तब्दील करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा, ‘यहां कोई उद्योग-धंधा नहीं है। यहां निजी सेक्टर है ही नहीं और सरकारी नौकरियां बेहद कम और मामूली हैं। यहां रहने वाले लोगों को कोई अधिकार नहीं दिया जाता। हमें अपनी बात कहने की भी आजादी नहीं है।’

एक अन्य पख्तून नेता ने पाकिस्तान पर कश्मीर के अंदर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। पख्तूनख्वा मिली आवामी पार्टी के नेता महमूद खान अचकजाई ने कहा कि पाकिस्तान को PoK से बाहर चले जाना चाहिए और कश्मीर को आजाद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हम कश्मीर पर नई नीति क्यों नहीं बनाते हैं? कश्मीर को भारत और पाकिस्तान दोनों से आजाद कर दिया जाना चाहिए। कश्मीर समस्या सुलझाने के लिए हम पहला जरूरी कदम क्यों नहीं उठाते हैं।’ महमूद खान ने BBC से बात करते हुए कहा कि अगर पाकिस्तान PoK से बाहर निकल जाता है, तो वह दुनिया को बता सकेगा कि भारत के साथ मिलकर कश्मीर समस्या सुलझाने के प्रति वह संजीदा और गंभीर है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान को भारत, अफगानिस्तान और ईरान जैसे अपने पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण संबंध विकसित करने पर ध्यान देना चाहिए। पिछले साल महमूद खान ने खैबर-पख्तूनख्वा को अफगानिस्तान का हिस्सा बताकर विवाद खड़ा कर दिया था।

Related Posts

Leave A Comment