मासूम बच्चों की मौत मामले की हो उच्चस्तरीय जांच: मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बीते सात दिनों में ही लगभग 60 से अधिक मासूम बच्चों की मौत मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। 

उन्होंने कहा है कि बसपा का तीन सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल तत्काल गोरखपुर जाएगा और पूरे मामले की जांच कर उन्हें रिपोर्ट सौंपेगा। साथ ही उन्होंने विभागीय मंत्री को बर्खास्त करने की भी मांग की है।

मायावती ने कहा, “गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में मासूमों की मौत से महिलाओं की गोद उजड़ जाना भाजपा शासनकाल में जनहित व जनकल्याण की घोर आपराधिक लापरवाही का खास उदाहरण है। इस दर्दनाक घटना के लिए भाजपा सरकार की जितनी भी भर्त्सना व निंदा की जाए वह कम है।”

उन्होंने कहा कि मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए व पीड़ित परिवार की हर प्रकार से पूरी मदद भी होनी चाहिए।

मायावती ने तंज कसते हुए कहा, “वैसे भाजपा का स्वभाव गलतियों को स्वीकार कर लेने वाला नहीं है, इसलिए स्वास्थ्य विभाग की इस प्रकार की घोर आपराधिक लापरवाही के लिए विभागीय मंत्री को बर्खास्त करने का मामला मुख्यमंत्री की विवेक पर ही छोड़ देना बेहतर है। वैसे भी भाजपा के लिए खासकर दलित-विरोधी, पिछड़ा वर्ग व मुस्लिम-विरोधी मामले के साथ-साथ तिरंगा, वंदेमातरम, मदरसा व एंटी रोमियो आदि ध्यान बांटने वाले मुद्दे ज्यादा महत्व रखते हैं।”

उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री स्वयं गोरखपुर में सरकारी दौरे पर थे और ऐसे में यह दर्दनाक हादसा सरकार की क्षमता व उसकी कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगता है। पीड़ित परिवार वालों को न्याय दिलाने के प्रयास के तहत बसपा का तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल गोरखपुर जाकर स्थिति का आकलन करके रिपोर्ट तैयार करेगा।”

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि इस दल में बसपा प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर, लालजी वर्मा व क्षेत्र के पार्टी प्रभारी दिनेश चंद्रा शामिल होंगे।

Related Posts

Leave A Comment