‘मेरी रात मेरी सड़क’ से एकजुट हुईं लड़कियां, कहा- रात में चलने की चाहिए आजादी

जयपुर। रात को सड़कों पर निकलने पर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ किया जाता है और फिर उल्टा दोष उन्हीं पर मढ़ दिया जाता है। उन्हीं पर दोषारोपणों के खिलाफ मेरी रात मेरी सड़क से एकजुट होकर शनिवार की रात का जयपुर की बेटियों ने रात को सड़क पर मार्च किया। मार्च के दौरान सबने रात को निकलने की आजादी को लेकर नारेबाजी भी की।

‘मेरी रात मेरी सड़क’ के नारे के साथ लड़कियां सड़कों पर निकल आई। इस अभियान से लड़कियों ने समाज के कुंठाग्रस्त लोगों को बताया कि लड़कियां कहीं भी कभी भी जा सकती है।

उन्हें भी सड़कों पर रात में या दिन में निकलने का उतना ही अधिकार हो जितना की मर्दों को मिलता है। आपको बता दें कि ये मुहिम फेसबुक पर चलाई गई जिसके बाद देशभर के विभिन्न शहरों में लड़कियां रात को सड़क पर निकलीं।

Related Posts

Leave A Comment