Breaking News

भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं जयंती, मोदी ने कहा हमारी एकता ही देश की ताकत

नई दिल्ली। संसद के दोनों सदनों में बुधवार को भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर विशेष बैठक हुई। इस अवसर पर संसद के बाकी कामकाज रद्द करके भारत छोड़ो आंदोलन पर चर्चा की गई। चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी भाषण दिया। वहीं भारत छोड़ो आंदोलन के 75वें सालगिरह पर स्वतंत्रता सेनानियों को सदन में श्रद्धांजलि भी दी गई।
9 अगस्‍त के आंदोलन की कल्पना अंग्रेजों को भी नहीं थी। युवाओं ने इसे आगे बढ़ाया था। 1857 से 1947 के बीच आंदोलन के कई पड़ाव आए। इतिहास का स्मरण हमें ताकत देता है।‘ आंदोलन के दौरान महात्‍मा गांधी ने कहा था ‘करेंगे या मरेंगे।‘ उन्‍होंने कहा था ‘पूर्ण स्‍वतंत्रता से कम पर समझौता नहीं।‘ 1942 में अभी नहीं तो कभी नहीं का माहौल था। उस वक्‍त देश का हर शख्‍स नेता बन गया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘आज हमारे पास गांधी नहीं हैं बापू जैसा नेतृत्‍व नहीं है हमारे पास लेकिन हमारे पास सवा सौ करोड़ की ताकत है

9 अगस्त यानि आज भारत छोड़ो आंदोलन के 75 साल पूरे हो रहे है। तय कार्यक्रम के मुताबिक संसद के दोनों सदनों में प्रश्न काल और शून्य काल स्थगित किए गए और लोकसभा में अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और राज्य सभा में सभापति हामिद अंसारी की तरफ से एक प्रस्ताव पढ़कर सुनाया गया। इसके बाद लोकसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज जबकि राज्य सभा में वित्त मंत्री अरूण जेटली भारत छोड़ो आंदोलन को लेकर चर्चा की शुरूआत की।

Related Posts

Leave A Comment