Breaking News

गिलानी पर कसा शिकंजा, दूसरे बेटे को भी NIA ने किया तलब

नई दिल्ली। आतंकी फंडिंग की जांच कर रही एनआईए ने अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी पर प्रोटेस्ट कैलेंडर मिलने के बाद शिकंजा कस दिया है। साथ ही उनके दूसरे बेटे को भी इस मामले में पूछताछ के लिए दिल्ली बुलाया है।

दरअसल एनआईए ने रविवार को जम्मू में एक वकील देवेंद्र सिंह बहल के घर छापा मारा। इस दौरान एनआईए को अलगवावदियों से जुड़े कुछ आपत्तिजनक दस्तावेजों के अलावा चार मोबाइल फोन मिले। इन सब में टीम को गिलानी के हस्ताक्षर वाला प्रोटेस्ट कैंलेडर भी मिला था जिसमें यह बताया गया था कि घाटी में किस दिन कौन का प्रदर्शन करना है। एक टीवी चैनल के मुताबिक इसके तार पाकिस्तान उच्चायोग तक जुड़े हो सकते हैं।

टीवी चैनल के मुताबिक देवेंद्र सिंह बहल का पाक उच्चायोग में रोजाना का आना-जाना था। देवेंद्र के घर अक्सर सैयद अली शाह गिलानी, नईम खान व शब्बीर शाह आया करते थे। आतंकी फंडिंग के लिए यहां पर बैठकें भी होती थीं। एनआइए ने अब तक आतंकी फंडिंग में सात अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार किया है। गिलानी के करीबी सहयोगी बहल उनके अलगाववादी संगठनों के समूह के लीगल विंग के सदस्य भी हैं। बताया जाता है कि आतंकी फंडिंग मामले में देवेंद्र सिंह कश्मीर घाटी में मारे गए आतंकियों की शवयात्रा में भी हिस्सा लेता रहा है।

देवेंद्र सिंह पेशे से वकील है, लेकिन प्रेक्टिस नहीं करता है। इस समय वह जम्मू एंड कश्मीर सोशल पीस फोरम चला रहा है। यह फोरम कश्मीर में मानवाधिकार मामलों को उठाता रहा है। इस संस्था का मुखिया हुर्रियत का अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी है। यह संस्था हुर्रियत के कानूनी मामलों को भी देखती है।

एनआईए के मुख्य प्रवक्ता आइजी आलोक मित्तल का कहना है कि देवेंद्र सिंह के घर से बरामद चार मोबाइल फोन की कॉल डिटेल खंगाली जा रही है। कुछ दस्तावेज मिले हैं, जिनके आधार पर उसका अलगाववादियों से संबंध जोड़ा जा रहा है।

इससे पहले एनआईए ने गिलानी के बड़े बेटे नईम को शनिवार को मुख्यालय तलब किया था। हालांकि इसी दौरान नईम ने सीने में दर्द की शिकायत की, जिसके बाद श्रीनगर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बता दें कि पेशे से सर्जन नईम पाकिस्तान में 11 वर्ष बिताने के बाद 2010 में भारत लौटा है। उसे ही गिलानी का असली उत्तराधिकारी माना जा रहा है। उधर, रविवार को गिलानी की ओर से बुलाई प्रेस वार्ता को भी प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने नहीं होने दिया। इससे पहले शनिवार को मीरवाइज की प्रेस कांफ्रेंस पर भी रोक लगा दी गई थी

NIA के हाथ लगा घाटी को धधकाने वाला कैलेंडर

कश्मीर में तनाव फैलाने के लिए अलगाववादी नेता कैलेंडर बनाकर जारी करते हैं। उन्हीं में से एक कैलेंडर एनआईए द्वारा आतंकी फंडिंग मामले में देवेंद्र सिंह के घर से बरामद किया गया है। यह कैलेंडर अक्सर कट्टरपंथी हुर्रियत के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की ओर से जारी होता रहा है। बरामद कैलेंडर 8 जुलाई का है, जिसमें बुरहान वानी की मौत का एक वर्ष बीतने पर कश्मीर में हड़ताल और बंद रखने का पूरा ब्योरा दिया है।

कैलेंडर में बुरहान की बरसी पर घाटी में बंद के एलान का भी जिक्र है। इस कैलेंडर के मिलने से स्पष्ट हो गया है कि देवेंद्र सिंह अलगाववादियों के नेताओं के संपर्क में रहता था और उसका एजेंडा भी उसके घर पर ही तय होता था।

संदिग्ध के घर से एक टैब भी बरामद हुआ है, जिससे पुलिस उसके अलगाववादियों के लिंक को भी खंगाला जा रहा है।

एनआईए के हाथ लगे कैलेंडर में हुर्रियत के नेताओं के उस फरमान का भी पता लगा है, जिसमें उन्होंने कश्मीर में सक्रिय जमात ए इस्लामी जो हिज्बुल मुजाहिद्दीन का आतंकी गुट है, में शामिल खूंखार आतंकवादियों को सेना के कैंपों और घाटी के संवेदनशील इलाकों में हमला करने का जिक्र भी किया गया है।

कैलेंडर में ऐसे आतंकवादियों के डेढ़ सौ नामों का भी उल्लेख भी किया गया है। एनआईए तमाम पहलुओं पर जांच कर रही है।

Related Posts

Leave A Comment