Breaking News

राष्ट्रपति कोविंद की पहली स्पीच पर भड़की कांग्रेस, नेहरू का जिक्र न होने से खफा

नई दिल्ली. देश के 14वें राष्ट्रपति के रूप में मंगलवार को शपथ लेने वाले रामनाथ कोविंद के पहले भाषण पर राजनीति शुरू हो गई है। कोविंद की स्पीच पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस का आरोप है कि राष्ट्रपति ने महात्मा गांधी के साथ दीनदयाल उपाध्याय का नाम तो लिया, लेकिन उन्होंने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जिक्र तक नहीं किया, जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

बुधवार को भी यह मामला कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया। ‘कांग्रेसी नेताओं का कद छोटा करने की साजिश’ पार्टी सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार सुनियोजित तरीके से कांग्रेस के महान नेताओं के कद को छोटा करने में लगी है। उन्होंने राष्ट्रपति के भाषण का जिक्र करते हुए कहा, ‘आजादी के संग्राम के एक महान नायक नेहरू थे, जो हिंदुस्तान के पहले प्रधानमंत्री थी, 14 साल अंग्रेजों की जेल में रहे थे।

इंदिरा गांधी 17 साल प्रधानमंत्री रहीं और देश केलिए शहीद हुईं। आज सरकार की तरफ से सुनियोजित तरीके से महात्मा गांधी के कद को छोटा दिखाना, पंडित नेहरू का नाम नहीं लेना… कल महात्मा गांधी की तुलना पंडित दीनदयाल उपाध्याय से की गई।’ वहीं, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि महात्मा गांधी की तुलना पंडित दीनदयाल उपाध्याय से करना सही नहीं है।
इससे पहले मंगलवार को भी कांग्रेस ने कोविंद की स्पीच की आलोचना करते हुए कहा था कि वह पूरे देश के राष्ट्रपति हैं और अब वह किसी दल को प्रतिनिधित्व नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कोविंद की स्पीच पर आपत्ति जताई थी।

Related Posts

Leave A Comment