Breaking News

चिकित्सा सुविधा को तरसती छह गांवो की आबादी

शाहपुरा।(महानगर संवाददाता) ग्राम पंचायत नांगल भरड़ा सहित बरवाड़ा, वीर हनुमान मंदिर में आने वाले श्रद्धालु, अमरपुरा, विशनपुरा चारणवास, हाथनोदा के आसपास के क्षेत्र में करीब 10-18 किलोमीटर के दायरे में आने वाली आधा दर्जन गांव करीब तीन दर्जन से अधिक ढाणियों के लोगों को आजादी के बाद भी चिकित्सा सुविधा के लिए चौमू सीएचसी पर निर्भर रहना पड़ रहा है। कस्बे में चिकित्सा सुविधा के नाम पर जीर्णशीर्ण एक उपस्वास्थ्य केंद्र आयुर्वेद औषधालय है। जिनमें नाम मात्र की सुविधाएं उचित दवाइयों के साथ उपचार के संसाधनों के अभाव में लोग सर्दी-जुखाम की दवाइयां भी लेना मुनासिब नहीं समझते है। उपचार के लिए लोगों को 13 किमी दूर चौमू सीएचसी या फिर निजी चिकित्सालयों के साथ वाहनों का भी मुंह ताकना पड़ता है। चौमू सीएचसी में आने-जाने के लिए पर्याप्त वाहनों का भी टोटा रहता है। ऐसे में चौमू से बरवाड़ा करीब 19, अमरपुरा 17, नांगल भरड़ा 12, वीर हनुमान मंदिर 15 किमी करीब 15-20 किमी के दायरे में स्थापित तीन दर्जन से अधिक ढाणियों के करीब 25 हजार आबादी वाले लोग आपातकालीन स्थिति में मजबूरी में छोटे-बड़े सड़क या अन्य हादसों में घायल होने पर इलाज के लिए महंगे किराए पर चौमू सीएचसी या निजी अस्पतालों में जाना पड़ रहा है। चौमू सीएचसी से नांगल भरड़ा करीब 12 किमी दूरी कस्बे के करीब 15-20 किमी दूरी के दायरे में एक भी पीएचसी होना लोगों के लिए दुर्भाग्य के साथ इलाज के लिए दर-दर भटकना पड़ता है।

सुविधाओं का है अभाव
ग्राम नांगल भरड़ा के वीर हनुमान मंदिर के लिए शाहपुरा चौमू विधानसभा क्षेत्रों के विधायकों ने सड़क, छाया, पानी के लिए करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रहे हैं, लेकिन श्रद्धालुओं के लिए राजस्व ग्राम पंचायतों ने मुख्य बस स्टैंडों पर पेयजल, शौचालय चिकित्सा सुविधाओं की ओर कोई ध्यान देना गलत संकेत है।

विस्तार पर नहीं जाना पड़ेगा चौमू
कस्बे में सर्दी, जुखाम, वायरल, सामान्य बीमारी, हादसों में खरोंचे, सड़क हादसे, रात में तबीयत खराब होने आदि पर 10-20 रुपए के इलाज के लिए लोगों को आनन फानन में 10-20 किमी का सफर तय करते हुए चौमू जाना पड़ता है। कस्बे में पीएचसी का विस्तार होने से प्रसुताओं को होने वाली तकलीफ से भी निजात मिलेगी।

Related Posts

Leave A Comment