• Thursday , 23 February 2017
Breaking News

दिल्ली सीरियल ब्लास्ट केस में कोर्ट ने दो आरोपियों को बरी किया

Advertisment

Advertisment

नई दिल्ली। यहां 2005 में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में पटियाला हाउस कोर्ट गुरुवार को फैसला सुनाया। तीन में से 2 आरोपियों को बरी कर दिया और एक की सजा पूरी मानी गई।

कोर्ट ने धारा 302 के तहत किसी को दोषी नहीं माना। दीपावली के ठीक एक दिन पहले हुई इस घटना में 60 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 100 से ज्यादा घायल हुए थे।

एडिशनल सेशन जज रीतेश सिंह ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसले की तारीख 16 फरवरी तय की थी। 2008 में कोर्ट ने तारिक अहमद डार, मोहम्मद हुसैन फाजिल और माेहम्मद रफीक शाह डार पर आरोप तय किए थे।

उन पर देश के खिलाफ वॉर छेड़ने, साजिश रचने, हथियार जुटाने, हत्या और हत्या की कोशिश का आरोप है।  तीनों आरोपियों में तारिक अहमद डार हमले का मास्टरमाइंड था।

कोर्ट ने उसकी सजा पूरी मानी है।   पुलिस को डार और बाकी आरोपियों के फोन कॉल डिटेल्स से पता चला था कि वे आतंकी गुट लश्कर-ए-तैयबा के टच में थे।  इस मामले में 250 से ज्यादा गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे।

3 जगहों पर हुए थे धमाके
29 अक्टूबर को दिल्ली के सरोजनी नगर, कालकाजी और पहाड़गंज में धमाके हुए थे।  पुलिस ने इस मामले में 3 अलग-अलग केस दर्ज किए थे।


 

Advertisment

Related Posts

Leave A Comment